कमैयाँ

श्रीराम चौधरी
७ आश्विन २०७८, बिहीबार
कमैयाँ

कविता
कमैयाँ

यी धर्तीह गुल्जार बनुइयाँ
रातदिन धर्तीम पखरा बजुइया
उक्ठ डर्वह कैलीकवलास बनुइया
उह महापुरुष हो कमैयाँ ।

नेपाली धर्ती आवाद करुइया
सारा तराई आवाद करुइया
बाघ, भाल, हठ्या ओ विच्छीसे लरुइया
आपन पौरखसे पहाड फोरुइया
ऐतिहासिक पुरुष हो कमैयाँ ।

आपन कन्ढक छाला खुल्कैटी
हाँठम उठल फुवँक प्रवाह निकैख
रातदिन यी धर्तीम पस्ना चुहाख
भुख्ल पियस्ल बैठ्ख
और जन्हँक ढुकुटी भरुइया
एक मिहिनेती भुमिपुत्र हो कमैयाँ ।

अप्न ओ परिवार भुख्ल पियस्ल बैठ्ख
और जहन चौरासी व्यन्जन खउइया
अप्न नंग्ट झोप्रीम बैट्ख
और जहनके महल सजुइया
कर्मठ ओ इमान्दार मानुख हो कमैयाँ ।।

श्रीराम चौधरी

कमैयाँ

श्रीराम चौधरी

0 Shares
Tweet
Share
Share
Pin