पानी हो सर्बक्षेष्ठ सबके पियास मेटइना

रेनुका चौधरी
२ कार्तिक २०७८, मंगलवार
पानी हो सर्बक्षेष्ठ सबके पियास मेटइना

कविता

पानी हो सर्बक्षेष्ठ सबके पियास मेटइना,
पियास किल मेटइना नै सक्कु प्राणीके ज्यान बचैना ।

बहट पानी कुलवामे अनेक ठाउँमे पुगके,
मेटाइट पियास पियासलके जे बैठल रहट अस्रामे ।

दुषित नैकरी सक्कुजे, पानी पिना बा हम्रिहिनहे,
यी सफा पानी संगे जिन्दगी बिटैना बा हम्रिहिनहे ।

रेनुका चौधरी
कैलारी ७ कैलाली

पानी हो सर्बक्षेष्ठ सबके पियास मेटइना

रेनुका चौधरी

कैलारी ७ कैलाली

6 Shares
Tweet
Share6
Share
Pin