चहना बेलम टुँ नै आडेठो

सन्देश दहित
३ कार्तिक २०७८, बुधबार
चहना बेलम टुँ नै आडेठो

कविता


टुहँ पानी
डर लागट टुँहिनसे
चहना बेलम टुँ नै आडेठो
ब्यार बुइक लाक मार काट हुइठ्
लेवा गेजार बनाइक लाग मार काट हुइठ्
जिउँ टिउँ के हरियर पोंकी
ओम्हे फेन ढर्टी भिजाइक लाग मार काट हुइठ
गामह्र हुइल, फुला लागल डुढ भरल डाना लागल
कट्नी सुरु हुइल, कट्ली कुरहैली सैका लगैली
आब बिन मौसमिक बरसलो ट
एक लागे बिगार कैलो


सन्देश दहित

चहना बेलम टुँ नै आडेठो

सन्देश दहित

9 Shares
Tweet
Share9
Share
Pin