बुडुक नत्या

संगम चौधरी
७ कार्तिक २०७८, आईतवार
बुडुक नत्या


कुछ डिहिंटे खैम कना आसमे
घुटुर–घुटुर ठुक लिल्टि रहल कुक्कुर हस
डवारिटिर ढुकल आसमे बैठल
भुँखेले पेट मुर्रैटि रलेसे फेन
अपन जिम्मेवारि पूरा करे बैठल
अपन आजा बुडुक पहिचानके लाग दौरे नैछोर्नु ।
आस मे सस्सा कबुनै छोर्नु।
गोर टनुइया हजार अइलै,
जाल बिनुइया हजार,
बिर्हे मुना हजार
मोर अधिकार खै
मोर अधिकार देखादेउ सरकार ।
बुदु बुडिन डेख्के तिख लागल
ओइन हंसैना चहनु
मान सम्मान कर्नु
मने भुंखाइल गिढ डांगर चोठेहस सुखाइल हड्डि कुक्कुर चबाइहस
मै चबुवा पैनु
बगालेम से हिगारल बाँदर हस
दिनभर डोंडरेम ढुकल उल्लु हस
डभ्कल बैठे परल
महि डेख्के अङरि डेखैठै
ढरयार छुरा मुटुम मरठै
जेकर भलाइके लाग बोल्नु उहे टिट मन्लैं
भ्रस्टाचारिनके टेल्लार बोली मिठ मन्लैं
ओइने टे फारे फेन जन्ठै
उहिहे सिए फेन जन्ठै
सुइ सुट ओइनके हांठेम बटिन
मोर ठन का बा
मोर अधिकार खै
मोर अधिकार डेखाडेउ सरकार ।
बुदु कहे टुर्हे हुइटो मोर सम्पटि बचुइया
हमार पहिचान झलकुइया
कहाँ गैलै आजा–आजि
कहाँ गैलै बुडि–बुडु
ओइनके पहिचान खै
मै फेन आजक आजा हुँ
बुदुक नत्या हँु
बाबक छावा हुँ
मोर अधीकार खै
मोर अधिकार डेखाडेउ सरकार ।
अस्रक मोटरि कस्ले बटुँ
मनक बन्ढुवा बंन्ढ्ले बटुँ
दुई गोराले जिउ ठम्हले बटुँ
बुक्रम सुटल टोंरैयाँ गनके राट कटाइल बटुँ
सस्सा छुटेहस करट
आँखिमसे आँश मुहेमसे लार चुह जाइट
दुइ हंठ्ठु मनहे ठम्हले बटुँ
हलि करो सरकार
मनक बंढुवा फुटे सेकि
जिउगर खुँटुवा ढले सेकि
हाँठक टेक्नि टुटे सेकि
अस्रक मोटरि फुटे सेकि
कहाँ बटो गाउँके अगुवा
कहाँ बटो डेशके अगुवा
कहाँसम चिम्ठाइल रबो
कहाँसम जम्हैटि रबो
कबसम कुर्सिम चुट्टर चप्टैले रबो
उठो सरकार डेउ महि अधिकार
मै फेन टे बुदुक नत्या हुँ
यहे दशके छावा हुँ
नेपालके नागरिक हुँ

संगम चौधरी

बुडुक नत्या

संगम चौधरी

6 Shares
Tweet
Share6
Share
Pin